नाइट्रोजन की कमी - खीरा

खीराखीरा

नाइट्रोजन की कमी

Nitrogen Deficiency


संक्षेप में

  • पत्तियों का बदरंग होना - हल्के हरे, हल्के लाल डंठल और शिराएं.
  • पत्तियों का अवरुद्ध विकास.
  • पौधे लंबे और पतले दिखते हैं।.

लक्षण

लक्षण पहले पुरानी पत्तियों में दिखाई देते हैं और फिर ऊपर की तरफ़ बढ़ते हुए नई पत्तियों में फैल जाते हैं। हल्के मामलों में, पुरानी पत्तियां हल्की हरी रह जाती हैं। यदि उपचार न किया जाए, तो समय के साथ इन पत्तियों पर पर्णहरित हीनता फैल जाती है और साथ में डंठल और शिराओं पर एक हल्का लाल बदरंगपन आ जाता है।जैसे-जैसे कमी बढ़ती है, ये पत्तियां अंत में, शिराओं सहित, पीली-सफ़ेद हो जाती हैं और या तो मुड़ सकती हैं या विकृत रूप से विकास करती हैं। नई पत्तियां हल्की हरी रहती हैं, लेकिन आकार में सामान्य से कम रह जाती हैं। शाखाओं की कमी के कारण पौधे लंबे और पतले दिखते हैं, लेकिन उनकी ऊंचाई आमतौर पर सामान्य रहती है। पौधे पानी की कमी के प्रभाव के प्रति अधिक संवेदनशील हो जाते हैं और पत्तियों का मुरझाना आम होता है। पत्तियों समय से पहले मर सकती हैं और झड़ सकती हैं, जिसके कारण उपज में भारी कमी आती है। नाइट्रोजन को उर्वरक के रूप में लगाने से कुछ ही दिनों में ये ठीक होने लगती हैं।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

पौधे के वानस्पतिक विकास के दौरान नाइट्रोजन की उच्च मात्रा की ज़रूरत होती है। अनुकूल मौसम के दौरान, यह ज़रूरी है कि तेज़ी से बढ़ रही फ़सलों को नाइट्रोजन अच्छी मात्रा में प्रदान किया जाए, ताकि वे अपनी अधिकतम वानस्पतिक और फल/अनाज उत्पादन संभावना को प्राप्त कर सकें। नाइट्रोजन की कमी कम जैविक पदार्थ वाली रेतीली, अच्छी जल निकासी वाली मिट्टी में पाई जाती है क्योंकि इनमें पोषक तत्वों के बह जाने की अधिक संभावना होती है। बार-बार बारिश, पानी भरना या भारी सिंचाई से भी नाइट्रोजन मिट्टी में बह जाता है और इसके कारण कमी हो सकती है। सूखे के दबाव से पानी और पोषक तत्वों का अवशोषण बाधित होता है, जिससे पोषक तत्वों की आपूर्ति असंतुलित हो जाती है। अंत में, मिट्टी का पीएच स्तर भी पौधे के लिए नाइट्रोजन उपलब्धता में भूमिका निभाता है। मिट्टी का कम या ज़्यादा पीएच स्तर पौधे द्वारा नाइट्रोजन के अवशोषण को नकारात्मक रूप से प्रभावित करता है।

जैविक नियंत्रण

मिट्टी में जैविक पदार्थ की उच्च मात्रा मिट्टी की संरचना को सुधार सकती है और पानी और पोषक तत्वों को बनाए रखने की मिट्टी की क्षमता को बेहतर कर सकती है। जैविक पदार्थ को मिट्टी में पशु खाद, कम्पोस्ट, पांस के रूप में जोड़ा जा सकता है, या केवल नेटल स्लैग, पक्षियों की बीट, हॉर्न मील (मवेशियों के खुर और सींग से बना उर्वरक) या नाइट्रोलाइम का इस्तेमाल करके भी डाला जा सकता है। नेटल स्लैग को सीधे पत्तियों पर भी छिड़का जा सकता है।

रासायनिक नियंत्रण

- नाइट्रोजन (N) युक्त उर्वरकों का प्रयोग करें। - उदाहरण: यूरिया, NPK, अमोनियम नाइट्रेट। - अपनी मिट्टी और फसल के लिए सबसे अच्छे उत्पाद और खुराक के बारे में जानने के लिए अपने कृषि सलाहकार से परामर्श करें। अतिरिक्त सुझाव: - फसल उत्पादन को बेहतर करने के लिए फसल के मौसम की शुरुआत से पहले मिट्टी का परीक्षण करने की सलाह दी जाती है। - पूरे मौसम के दौरान नाइट्रोजन की कुल मात्रा को कई खुराकों में बांटकर डालना सबसे अच्छा रहता है। - अगर कटाई का समय करीब है, तो इसका इस्तेमाल न करें।

निवारक उपाय

  • आपकी फसल के अधिकतम उत्पादन के लिए फसल के मौसम के आरंभ से पहले मिट्टी की पीएच की जांच करें, और सही सीमा प्राप्त करने के लिए, चूने का इस्तेमाल करें.
  • खेतों में अच्छी जल निकासी का प्रबंध करें और अधिक पानी न दें.
  • उर्वरकों के अत्यधिक या असंतुलित उपयोग के कारण कुछ सूक्ष्म पोषक तत्व पौधों को अनुपलब्ध रह जाते हैं.
  • सूखे की अवधि में पौधों को नियमित रूप से पानी देना याद रखें.
  • कम्पोस्ट, पशु खाद या पलवार के ज़रिए जैविक पदार्थ डालना सुनिश्चित करें.
  • डंठलों के विश्लेषण से किसानों को फसल में नाइट्रोजन की कमी के बारे पता लग सकता है।.